इस दिन मनाई जाएगी जन्माष्टमी, जानें शुभ मुहूर्त और पूजन विधि…

0
50

द्वापर युग में कंस के अत्याचारों से मुक्ति दिलाने के लिए भगवान श्री कृष्ण ने जन्म लिया था. इनका जन्म भाद्रपद के कृष्ण पक्ष में अष्टमी को हुआ था, इसलिए हर साल जन्माष्टमी को भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाता है. इस वर्ष यह पर्व 6 और 7 सितंबर को मनाया जाएगा. इस दिन उपवास, भजन-कीर्तन, झांकी सजाना और मध्यरात्रि में भोग लगाने की परंपराएं हैं

बाबा भोलेनाथ की उपासना के बाद अब समय आ गया है श्रीकृष्ण उत्सव मनाने का. श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास में कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन हुआ था. इस वर्ष कान्हा जी का जन्मदिन यानी जन्माष्टमी 6 सितंबर दिन बुधवार को है. वैसे 6 तारीख को स्मार्त यानी गृहस्थ और 7 सितंबर गुरुवार को वैष्णव अर्थात साधु संन्यासी इस पर्व को मनाएंगे.

2023द्वापर युग में मथुरा नगरी में राजा उग्रसेन का राज्य था, उनका पुत्र कंस साहसी और प्रतापी होने के साथ अत्यंत क्रूर और निर्दयी भी था. उसने स्वयं को ही भगवान घोषित कर अपनी पूजा करवाना शुरू कर दिया और उसे भगवान न मानने वालों को दंड देने लगा, जिससे जनता में त्राहि त्राहि मच गई. यहां तक कि जब पिता ने उसे इन बातों से रोका तो अपने पिता को ही जेल में डलवा दिया. कंस के अत्याचारों से दुखी होकर देवताओं ने पहले ब्रह्मा जी और फिर उनके कहने पर विष्णु जी से प्रार्थना की. विष्णु जी ने कहा कि मैं जल्द ही वसुदेव की पत्नी और कंस की बहन देवकी के गर्भ से जन्म लूंगा. वसुदेव और देवकी के विवाह के बाद विदाई के समय आकाशवाणी हुई, अरे कंस, तेरी बहन का आठवां पुत्र ही तेरी मृत्यु का काल बनेगा. इसके बाद कंस ने क्रोधित होकर दोनों को जेल में डलवा दिया. देवकी की सात संतानों को कंस ने मरवा डाला और आठवें पुत्र के रूप में ही श्री कृष्ण का जन्म हुआ.